15 मई 2012

अलसभोर मन

तुम पे शोभता है                                                                                                     
हर सिंगार हर वसन                                                                                                  
गजरा हो या हार हो                                                                                                   
फूलों का हो सजन

केतकी गुलाब
पारि‍जात गुलमोहर
रजनीगंधा रातरानी
जूही कनेर और
मोगरे की कली से
महकता हो बदन

जब न फूल हों
तो भी ढेरों सिंगार
फुलेल तेल इत्र से
महके रसवंती नार
घुँघटे में मुख कमल
आँखों में हो अंजन

चमक चाँदनी तुम्हारा
रूप ही बहार
भ्रमर गीत हो या
मधुमास का मनुहार
पलक पाँवड़े बि‍छाये
अलसभोर मन

1 टिप्पणी:

  1. सुन्दर शब्द संरचना से पुरुष प्रकृति को एकाकार कराती श्रंगारिक कविता ! बधाई !!

    उत्तर देंहटाएं