13 अगस्त 2011

आज है राखी का त्‍योहार


Raksha Bandhan Cards

Free Greetings

आज है राखी का त्योहार
भाई को बहि‍ना का उपहार
कच्चे धागे में लि‍पटा है
एक अनोखा प्यार।
आज है राखी का त्योहार--------

साथ खेल पढ़ बड़े हुए तब
अपने पग पर खड़े हुए जब
रि‍श्तों की तासीर बताई
घर की इज्जत है समझाई
मात-पि‍ता की प्रति‍मूरत है
बहि‍न भाई की जो सूरत है
ममता का सागर लहराये
बाहों में संसार समाये
एक पेट जाये हैं दोनो
एक खून एक नार।
आज है राखी का त्योहार------------

संस्कार देने होंगे अब
रि‍श्ते दृढ़ करने होंगे अब
बचपन से अपनापन जोड़ें
घर से कभी न दामन तोड़ें
घर घर में रि‍श्ते हों पोषि‍त
नारी कही नहीं हो शोषि‍त
माँ बहु बेटी बहि‍न बहार
घर में सुख की बहे बयार
नैहर और ससुराल बनेंगे
स्वर्ग सेतु और द्वार।
आज है राखी का त्योहार---------

बहि‍न भाई के इस बंधन में
पड़े न कभी दरार।
कच्चे धागे में लि‍पटा है
एक अनोखा प्यार।
आज है राखी का त्योहार।

-रक्षाबन्धन पर

1 टिप्पणी:

  1. ब्लॉगिंग के माध्यम से हमारी कोशिश यही होनी चाहिए कि मनोरंजन के साथ साथ हक़ीक़त आम लोगों के सामने भी आती रहे ताकि हरेक समुदाय के अच्छे लोग एक साथ और एक राय हो जाएं उन बातों पर जो सभी के दरम्यान साझा हैं।
    इसी के बल पर हम एक बेहतर समाज बना सकते हैं और इसके लिए हमें किसी से कोई भी युद्ध नहीं करना है। आज भारत हो या विश्व, उसकी बेहतरी किसी युद्ध में नहीं है बल्कि बौद्धिक रूप से जागरूक होने में है।
    हमारी शांति, हमारा विकास और हमारी सुरक्षा आपस में एक दूसरे पर शक करने में नहीं है बल्कि एक दूसरे पर विश्वास करने में है।
    राखी का त्यौहार भाई के प्रति बहन के इसी विश्वास को दर्शाता है।
    भाई को भी अपनी बहन पर विश्वास होता है कि वह भी अपने भाई के विश्वास को भंग करने वाला कोई काम नहीं करेगी।
    यह विश्वास ही हमारी पूंजी है।
    यही विश्वास इंसान को इंसान से और इंसान को ख़ुदा से, ईश्वर से जोड़ता है।
    जो तोड़ता है वह शैतान है। यही उसकी पहचान है। त्यौहारों के रूप को विकृत करना भी इसी का काम है। शैतान दिमाग़ लोग त्यौहारों को आडंबर में इसीलिए बदल देते हैं ताकि सभी लोग आपस में ढंग से जुड़ न पाएं क्योंकि जिस दिन ऐसा हो जाएगा, उसी दिन ज़मीन से शैतानियत का राज ख़त्म हो जाएगा।
    इसी शैतान से बहनों को ख़तरा होता है और ये राक्षस और शैतान अपने विचार और कर्म से होते हैं लेकिन शक्ल-सूरत से इंसान ही होते हैं।
    राखी का त्यौहार हमें याद दिलाता है कि हमारे दरम्यान ऐसे शैतान भी मौजूद हैं जिनसे हमारी बहनों की मर्यादा को ख़तरा है।
    बहनों के लिए एक सुरक्षित समाज का निर्माण ही हम सब भाईयों की असल ज़िम्मेदारी है, हम सभी भाईयों की, हम चाहे किसी भी वर्ग से क्यों न हों ?
    हुमायूं और रानी कर्मावती का क़िस्सा हमें यही याद दिलाता है।

    रक्षाबंधन के पर्व पर बधाई और हार्दिक शुभकामनाएं...

    देखिये
    हुमायूं और रानी कर्मावती का क़िस्सा और राखी का मर्म

    उत्तर देंहटाएं